Thursday , November 15 2018
Home / Travel Destinations / अलास्का का डनाली नैशनल पार्क
अलास्का का डनाली नैशनल पार्क

अलास्का का डनाली नैशनल पार्क

अलास्का का डनाली नैशनल पार्क उत्तरी अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी, बहुत-से वन्यजीवों और साहसिक पर्यटन के अनोखे अवसरों के लिए जाना जाता है।

60 लाख एकड़ में फैले निर्जन क्षेत्र में पर्यटन के आनंद का अवसर देने के लिए अलास्का का ‘डनाली नैशनल पार्क एंड प्रिजर्व‘ हर तरह की पर्यटन गतिविधि की सुविधा देता है, चाहे वह सामूहिक पर्वतारोहण हो या अकेले ही अभियान पर जाना हो या निर्जन एकांत में समय बिताने का विकल्प। इसके मुख्य आकर्षण माऊंट मैकिनली को भी भूल पाना नामुमकिन है। 20,320 फुट की ऊंचाई पर यह उत्तरी अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी है।

पार्क के बीचों-बीच 144 किलोमीटर लम्बी सड़क है जो एनकरेज सिटी के 386 किलोमिटर उत्तर में स्थित है। यह पार्क रोड अलास्का पर्वत श्रंखलाओं के समानांतर नीची घाटियों और ऊंचे पहाड़ी दर्रों को काटकर बनाई गई है, जिससे पर्यटकों को वन्य-जीवन की प्रचुरता को नजदीक से देखने का मौका मिलता है। भूरे भालू, भेड़िए, अमेरिकी हिरण और बाज यहां बहुतायत में देखे जा सकते हैं।

मौसम अगर इजाजत दे तो निजी कारें पर्यटकों को ‘माइल 15’ तक ले जा सकती हैं लेकिन उससे आगे जाने के लिए बसों का चुनाव करना पड़ता है। पर्यटक बसों में गाइड होते हैं जो सैलानियों को यात्रा के विभिन्न पड़ावों के बारे में बताते हैं। यहां पर शटल बसें भी चलती हैं जो जानवरों और खूबसूरत दृश्यों को देखने के लिए जगह-जगह रूकती हैं लकिन इनमें गाइड नहीं होते। इन बसों में पर्यटक जब चाहें, चढ़-उत्तर सकते हैं।

वन्य-जीवों को सड़कों के बिल्कुल पास में देखा जा सकता है और आप भालू, मूज (हिरण की एक प्रजाति) और दूसरे वन्य-जीवों के बिलकुल नजदीक जा सकते हैं।

यहां सामान्यतः आसमान बादलों से घिरा होता है और अगर यह अनुमति दे, तो बस यात्रा के दौरान माऊंट मैकिनली को देखा जा सकता है, जो यहां के मूलवासी डनाली कहलाते हैं जिसका अर्थ होता है ‘महान।’ माऊंट मैकिनली को ऊंचाई से, उड़ान के दौरान हैलीकॉप्टर या छोटे विमानों से बेहतर ढंग से देखा जा सकता है।

साल का चाहे कोई भी महीना क्यों न हो, यहां के मौसम के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। जाड़ों में यहां का तापमान 4.4 डिग्री सैल्सियस से 40 डिग्री सैल्सियस के बीच रहता है।

नजदीकी की शहर टलकीटना अपने आप में बहुत मनोरंजक जगह है। यह एक ऐतिहासिक शहर है जिसमें आकर्षण के कईकेंद्र हैं। वहां एक रोडहाऊस (रैस्टोरैंट) है, जिसमें प्रसिद्ध सोरडॉ पैनकेक मिलते हैं, एक बियर फैक्टरी हैं, एक नदी है और एक जनरल स्टोर है।

मई के मध्य से सितम्बर के मध्य तक, जिसे दक्षिण अलास्का क्षेत्र में गर्मी का मौसम माना जाता है, पार्क में आने का आदर्श समय माना जाता है। इस दौरान पार्क में दी भर के पर्यटन कार्यक्रम और रेंजर के दिशा-निर्देश में विभिन्न तरह की गतिविधियां आयोजित होती हैं, जिनमें प्रकृति दर्शन, सैमीनार और शाम के कार्यक्रम होते हैं। गर्मियों में यात्री अलग-अलग कैंपग्राऊंड के लिए बैक काऊंटी इनफॉर्मेशन सैंटर परमिट हासिल कर सकते हैं। परमिट हासिल करने की इस प्रक्रिया में लगभग एक घंटा लगता है, जिनमें सुरक्षा से संबंधित जानकारी का एक सत्र भी शामिल होता है।

अगर गर्मियों में यहां आना संभव न हो, तो शरद और वसंत के मौसम में भी यहां आया जा सकता है, परन्तु प्रतिकूल मौसम के कारण यहां हमेशा सड़क मार्ग से जाने और चढाई करने में बाधा आने की आशंका रहती है। इसके अलावा इस मौसम में पार्क द्वारा प्रायोजित किए जाने वाले कई कार्यक्रम भी नहीं होते।

हालांकि, पार्क जोड़े में भी खुला होता है और तब मौसम के अनुरूप पार्क रोड और बैक काऊंटी में क्रॉस कंट्री स्कीइंग और स्त्रोशूइंग जैसे आयोजन होते हैं। विंटर विजिटर सैंटर में सिमित संख्या में बर्फ पर चलने वाले जूते मुफ्त में उधार के लिए उपलब्ध होते हैं लेकिन पार्क स्कीइंग के उपकरण किराए पर नहीं देता।

साल के जिस भी समय आप इस पार्क में आएं, यहां के ऐतिहासिक स्लेज डॉग केनल में आना मत भूलें। इन केनलों में रहने वाले कुत्ते 1920 से ही पार्क की गतिविधियों में योगदान दे रहे हैं। सर्दियों के मौसम में ये कुत्ते रेंजरों का सामान ले जाने में बहुत उपयोगी साबित होते हैं। डनाली, माऊंट मैकिनली, टलकीटना और आसपास के इलाकों का पूरा आनंद लेने के लिए यहां कुछ दिन रहने की सलाह दी जाती है।

यहां का मौसम हमेशा बदलता है, ऐसे में यह हो सकता है कि लंबे समय तक रहने के बावजूद आप पहाड़ को एक बार ही देख सकें लेकिन पहाड़ दिखे या न दिखे, पार्क के अंदर बस की यात्रा अपने आप में बेहद रोमांचक होती है, क्योंकि आप जानवरों और आसपास के मनोरम दृश्यों को पाते हैं।

Check Also

पौलेंड: जब पहरेदार के गले पर तीर लगा

पौलेंड: जब पहरेदार के गले पर तीर लगा

राजधानी वारसा के बाद क्राकाओ पोलैंड का दूसरा सबसे बड़ा शहर है परंतु अनेक पोलैंड वासियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *