Friday , August 17 2018
Home / Travel Destinations / परी लोक जैसा है सिंगापुर में ‘गार्डन्स बाई द बे’
परी लोक जैसा है सिंगापुर में 'गार्डन्स बाई द बे'

परी लोक जैसा है सिंगापुर में ‘गार्डन्स बाई द बे’

Address: 18 Marina Gardens Dr, Singapore 018953
Area: 101 ha
Open: Daily
Phone: +65 6420 6848
www: gardensbythebay.com.sg

सिंगापुर में ‘गार्डन्स बाई द बे’ के ‘द फ्लावर डोम’ में 9 बेहद सुंदर बगीचे हैं। इन बगीचों में 150 प्रजातियों के 30 हजार पौधे  हर किसी का मन मोह लेते हैं। इन बगीचों में तरह-तरह के रंग-बिरंगे फूलों की महक के बीच किसी परी लोक-सा अहसास होता है।

सिंगापुर में 101 एकड़ में फैला ‘गार्डन बाई द बे’ (अर्थ-खाड़ी के खाड़ी के साथ लगते उद्यान) किसी को भी अपने सुंदर नजरों से विस्मित कर सकता है। समुद्र में मिट्टी डालकर तैयार इस स्थान में ही विख्यात ‘द फ्लॉवर डोम’ भी स्थित है जो विश्व का सबसे बड़ा कांच का ग्रीनहाऊस है। इसमें 9 बेहद सुंदर उद्यान हैं जिनमें अफ्रीका, अमेरिका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया तथा यूरोपीय महाद्वीपों के एक से बढ़कर एक फूल-पौधे तथा वृक्ष उगाए जाते हैं।

फूलों की प्रदर्शनियां: 16 मार्च से 8 अपैल तक यहां आयोजित हो वार्षिक चैरी ब्लॉसम प्रदर्शनी ‘साकुरा मातसुरी’ के दौरान गुलाबी रंग के चैरी ब्लॉसम फूलों की बहार देखने को मिल रही है। फूलों से लदे चैरी ब्लॉसम वृक्षों के बीच बने मार्ग पर सैर करते हुए जापानी थीम वाली चीजों जैसे टी-हाऊस, रिक्शा तथा टोरी गेट्स आदि को करीब से देख सकते हैं। सारा माहौल जापानी प्रतीत होता है जिसे जापान का पारम्परिक परिधान किमोनो पहने बड़ी-बड़ी गुड़िया से बेहद खूबसूरती के साथ सजाया जाता है।

‘गार्डन ऑफ मैजिकल बरोज’ में विभिन्न रंगों के ट्यूलिप फूलों की सुंदरता बेहद विस्मयकारी प्रतीत होती है। इस बगीचे में 13 अप्रैल से 13 मई तक ‘ट्यूलिप मेनिया’ प्रदर्शनी का आयोजित किया जाएगा। इसके लिए बगीचे को रंग-बिरंगे अंडों तथा खिलौने खरगोशों से विशेष रूप से सजाया जाता है। 25 मई से 1 जुलाई के बीच ‘बेगोनिया फूलों को रचनात्मक ढंग से पेश किया जाएगा। इस प्रदर्शनी के लिए इस बार पर्यावरण हितैषी वास्तुकला से प्रेरणा ली जा रही है।

बादलों का जंगल: ‘गार्डन्स बाई द बे’ में ही स्थित ‘क्लाऊड फॉरैस्ट’ (बादलों का जंगल) में कुछ नए आश्चर्य आपका इंतजार करते हैं। कोहरा तथा 60 हजार पौधे एक रहस्मयी जगत जैसे प्रतीत होते हैं। आर्किड्स, पिचर प्लांट्स तथा फर्न्स आदि से भरे उष्णकटिबंधीय जलवायु का यहां अनुभव होता है।

यहीं आपको विश्व का सबसे ऊंचा ‘इंडोर वाटरफॉल’ (झरना) दिखाई देगा जिसमें 35 मीटर ऊंचाई से पानी गिरता है। इस झरने के करीब ही ट्रैकिंग करते हुए आप शीतल हवाओं तथा इस झरने का एक विस्मित करने वाला नजारा देख सकते हैं। यहां ‘क्लाऊड वॉक’ से लेकर ‘ट्री टॉप वॉक’ जैसे रोमांचक बन्दोबस्त भी सब को लुभाते हैं।

क्लाऊड फॉरैस्ट थिएटर ठसा गैलरी: यहां ग्रीन वर्ल्ड’ तथा ‘+5 डिग्रीज’ जैसे फिल्मों को देखकर दुनिया भर को प्रभावित कर रहे जलवायु परिवर्तन के बारे में ज्ञान प्राप्त क्र सकते हैं।

यहीं एक कलादीर्घा भी है जहां तरह-तरह के ग्राफिक्स, डायग्राम्स तथा कलाकृतियां आदि प्रदर्शित हैं जो धरती के पर्यावरण तथा जीव-जंतुओं के बारे में बहुत कुछ बताती हैं।

इनके अलावा भी बहुत कुछ: इन सबके अलावा भी ‘गार्डन्स बाई द बे’ में आकर्षणों की भरमार है। ठंडे तथा रखे भूमध्यसागरीय जलवायु वाले इस स्थान में हजार वर्ष प्राचीन जैतून के पेड़ों तथा अनूठे अफ्रीकी बओबा पेड़ों के बीच टहलते हुए एक अलग ही अद्भुत अहसास होता है।

‘सीक्रेट गार्डन’ में चुना पत्थर के जंगलों तथा गुफाओं के विविधतापूर्ण वास को देख सकते हैं। यहां कुछ दुर्लभ बेगोनिया तथा मिनिएचर ऑर्किड्स मौजूद हैं।

सुपरट्रीज एंड स्काईवे: विशाल पेड़ों जैसे रूप रखे विशाल टावरों में विभिन्न प्रकार के पौधे लगाए गए हैं जिससे हर टावर एक विशाल पेड़ जैसा लगता है। इनमें कुल मिला कर 200 प्रजातियों के डेढ़ लाख से अधिक पौधे लगाए गए हैं।

इन पेड़नुमा विशाल टावरों पर एक स्काईवे भी बना है। जहां से बगीचे के साथ लगती मरीना खाड़ी का भी बेहद सुंदर नजारा यहां से दिखाई देता है। शाम ढलने के बाद सिंगापुर रोशनी में नहाने लगता है और इन उद्यानों में 7.45 था 8.45 बजे एक लाइट एंड साऊंड शो को देखने का आनंद भी पर्यटक अवश्य लेते हैं।

Check Also

निलगिरी के दो रत्न: ऊटी और कन्नूर

दक्षिण की पहाड़ियों की रानी के नाम से विख्यात ऊटी तथा उसके करीब स्थित कन्नूर की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *