Thursday , November 15 2018
Home / Travel Destinations / वालेटा: यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी
वालेटा: यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी

वालेटा: यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी

जब से वालेटा को 2018 के लिए यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी घोषित किया गया, इससे मिलने वाले आकर्षण को भुनाने के लिए कई प्रकार की विशेष तैयारियां यहां होती रही हैं जिनमें एक नए ओपेरा से लेकर पारम्परिक बोट रेस आदि शामिल हैं।

माल्टा की राजधानी वालेटा को आम बोलचाल की भाषा में इल-बैल्टा नाम से पुकारा जाता है। इसे यूरोप में किसी भी देश की सबसे छोटी राजधानी के रूप में भी जाना जाता है।

इस शहर में हॉलीवुड की अनेक ब्लॉकबस्टर फिल्मों की शूटिंग होती रही है। शहर की रक्षा के लिए बने दुर्ग की विशाल दीवारें, शानदार स्थापत्यकला तथा निराली संकरी गलियां हैं। यही कारण है कि इसे ही ‘म्यूनिख‘, ‘ग्लैडिएटर‘ तथा ‘मिडनाइट एक्सप्रैस‘ जैसी हॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग के लिए चुना गया।

उसमान शासकों पर विजय प्राप्त करने वाले ग्रैंड मास्टर ‘जीन दे ला वालेट’ द्वारा बनवाए गए इस शहर को बदलाव के बावजूद अपनी मूल छवि को बरकरार रखने के लिए जाना जाता है।

फिर भी माल्टा का प्रमुख वाणिज्यिक केंद्र होने के बावजूद दशकों तक वालेटा यूरोप का एकमात्र ऐसा राजधानी शहर रहा है जहां रात होते ही सन्नाटा छा जाता था और रातों की सारी चकाचौंध करीब स्थित सलीमा में रहती थी।

ऐसे में जब वर्ष 2012 में घोषणा हुई थी कि वालेटा वर्ष 2018 के लिए यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी होगा तो शहर प्रशासन को लगा कि यह इसे साफ करने तथा इसकी सुंदरता से दुनिया भर को अवगत करवाने का एक उम्दा अवसर है।

इस मकसद से 2013 से लेकर अब तक शहर में 58 मिलियन डॉलर का निवेश हो चुका है। इनमें से 12 मिलियन सांस्कृतिक सैक्टर में लगाए गए हैं जिससे यहां नया संग्रहालय तथा उस स्ट्रेट स्ट्रीट का भी सौंदर्यीकरण किया गया है जो द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान रैड लाइट इलाके में बदल गया था।

माल्टा में संस्कृति सामाजिक स्तर पर विभाजित दिखाई देती है। ऐसे में क्रिएटिव इंडस्ट्री से जुड़े कई लोगों को लगता है कि शहर को सांस्कृतिक पहचान दिलाने के प्रयासों में उन्हें नजरअंदाज क्र दिया गया है। उनका कहना है कि सरकार की ओर से इस काम के लिए नियुक्त लोगों के पास नवीन विचारों की कमी है और वे पुराने दर्रे पर ही टिके रहना चाहते हैं।

हालांकि, वैलेटा 2018 फाऊंडेशन के चेयरमैन जेसन मिकालेफ़ इससे सहमत नहीं हैं। उनके अनुसार 1964 में माल्टा की आजादी के बाद अब उन्हें शहर के सौंदर्यीकरण के लिए सबसे ज्यादा फंड मिल सके हैं। अगले वर्षभर चलने वाले विशेष कार्यक्रमों को मनोरंजन, चुनौतीपूर्ण तथा सबसे बढकर प्रेरणादायक बनाने के उद्देश्य से तैयार किया गया है। करीब 1 हजार स्थानीय तथा अंतर्राष्ट्रीय कलाकार वालेटा 2018 में योगदान देंगे जिसकी शुरुआत 14 जनवरी, 2018 से होगी।

इन विशेष कार्यक्रमों का आयोजन विभिन्न स्थानों पर होना है जिससे कि इस शहर के ऐतिहासिक स्थलों के बारे में लोगों को ज्यादा से ज्यादा पता चल सके।

जैसन के अनुसार शहर ने हमेशा यूरोप भर से महान लोगों को आकर्षित किया है। दुनिया के कई सर्वोत्तम कलाकारों ने इसे इसे अपना घर कहा है।

विशेष कार्यक्रमों में एक प्रमुख आकर्षण होगा ‘द पीजैंट ऑफ द सीज’ जिसमें स्थानीय समुदाय विशेष रूप से डिजाइन की गई नौकाओं में यूरोप के सर्वाधिक खूबसूरत बंदरगाहों में से एक में रेस लगाएंगे। साल के मध्य में ओपेरा सीजन के दौरान विशेष नाटक ‘अहना रेफ्यूजाती’ (हम रिफ्यूजी हैं) का आयोजन होगा।

माल्टा वासी वैलेटा को 2018 के लिए यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी का दर्जा मिलने पर गर्व महसूस करते हैं परंतु इससे जुड़े आयोजनों की तैयारी विवादों से अछूती नहीं रह सकी है। कई लोगों को लगता है कि इन तैयारियों के लिए चुने गए पदाधिकारियों की नियुक्त प्रतिभा के आधार पर नहीं बल्कि राजनीतिक कारणों से की गई है।

आलोचकों के अनुसार लोगों को किसी विशेष योग्यता या प्रतिभा के लिए नहीं बल्कि अपने राजनीतिक सम्पर्कों के चलते ही वालेटा 2018 के लिए नियुक्तियां दी गई हैं। उनका कहना है कि कला के लिए खुल कर फंड देने के बावजूद इसकी गुणवत्ता में कुछ न कुछ कमी महसूस हो रही है। जो भी हो, अपेक्षा की जा रही है कि सालभर चलने वाले यूरोपीय सांस्कृतिक राजधानी से जुड़े कार्यक्रमों से शहर के पर्यटन में 7 प्रतिशत तक वृद्धि होगी।

Check Also

श्रीलंका का अनछुआ हिस्सा: हम्बनटोटा

श्रीलंका का अनछुआ हिस्सा: हम्बनटोटा

श्रीलंका की राजधानी होने के नाते कोलम्बो तो पहले से ही काफी लोकप्रिय है परंतु …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *