Saturday , July 22 2017
Home / Travel Destinations / पोलैंड की राजधानी – वारसा
पोलैंड की राजधानी - वारसा

पोलैंड की राजधानी – वारसा

पोलैंड की राजधानी वारसा में हर तरह की खूबसूरती देखने को मिलती है। यहां पर सुंदर से सुंदर वास्तुशिल्प से लेकर कुदरती नजारों की भी भरमार है। 231 मीटर ऊंचा पैलेस ऑफ कल्चर एंड साइंस, वारसा ट्रेड टावर तथा चमचमाती कॉर्पोरेट बिल्डिंगे इस शहर की खूबसूरती में चार चांद लगाती है।

Palace of Culture and Science, Warsaw, Poland
Palace of Culture and Science, Warsaw, Poland

आज के वारसा को देख कर यह कल्पना भी नहीं की जा सकती कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान नाजियों ने इस शहर को मलबे में बदल दिया था। तब अडोल्फ हिटलर की सेना ने इस शहर में खूब बम बरसाए और हजारों लोगों को मौत की नींद सुला दिया था।

हालांकि, वारसा ने जबरदस्त वापसी की। यहां पर कारीगरों व वास्तुशिल्पिपों की मेहनत आज साफ दिखाई देती है। शहर के महलों, गिरजाघरों तथा प्रमुख स्मारकों की सुंदरता किसी का भी मन मोह सकती है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद इस शहर को दोबारा संवारने में कारीगरों ने दिन-रात मेहनत से काम किया। सबसे खास बात है कि शहर की विभिन्न इमारतों तथा स्मारकों को पहले वाला रूप देने के लिए जान लगा दी गई।

इसके लिए मलबे से मिली ऑयल पेंटिंग्स, पोस्टकार्ड्स, समाचारपत्रों में छपी पुरानी फोटोज, पुरानी फैमिली एलबमों आदि की मदद ली गई। इन्हें देख कर ही हू-ब-हू पुरानी इमारतों को पहले वाले रूप में तैयार किया गया। वारसा का ओल्ड टाऊन चित्रकार बरनाडोर बेलोटो द्वारा 18वीं शताब्दी में बनाई गई पेंटिंग्स के आधार पर फिर से बनाया गया। इसे ‘सम्पूर्ण पुनर्निर्माण के अविश्वसनीय उदाहरण‘ के रूप में यूनैस्को की सूची में शामिल किया गया है।

पोलैंड भर में लगभग 3 हजार महल हैं। इनमें से ज्यादातर का निर्माण 17वीं तथा 18वीं सदी में राजाओं तथा उच्चाधिकारियों के लिए किया गया था। इनमें से अधिकतर विश्व युद्ध में तबाह हो गए। सरकार ने उन्हें ठीक करवाया और अब वे ऐतिहासिक स्मारकों या संग्रहालयों का रूप के चुके हैं।

वारसा शहर के आ॓ल्ड टाऊन में ‘मार्कीट्स स्क्वेयर‘ में कांसे की बनी सुंदर प्रतिमा ‘मरमेड ऑफ वारसा‘ इसकी शान और बढ़ाती है। यह इस शहर की प्रतीक है जिससे मिलती-जुलती एक मशहूर प्रतिमा कोपेनहेगन में लगी है। किवंदती है कि एक मछुआरे को यह जलपरी मिली थी जिसे उसने बचाया और उसके बाद शहर की रक्षा के लिए यह यहीं रुक गई।

Warsaw Old Town
Warsaw Old Town

कैसल स्क्वेयर‘ भी आ॓ल्ड टाऊन का हिस्सा है जो शाही मार्ग के अंत में स्थित है। यह एक अन्य पुननिर्मित इलाका है। इसी इलाके में ‘रॉयल कैसल‘ भी है जो आज एक चहल-पहल भरे बाजार का रूप ले चूका है।

वारसा में हर संस्कृति व पृष्टभूमि के लोग दिखाई देते हैं और आज यह यूरोप का एक शानदार शहर बन चूका है।

वारसा तथा आसपास कुदरती नजारे भी खूब हैं। यहां हरियाली की कमी नहीं। शहर के करीब एक-चौथाई हिस्से में मैदान, पार्क, गार्डन व हरे-भरे चौराहे मौजूद हैं जिनमें ऐतिहासिक कलात्मक स्मारक भी प्रमुख आकर्षण हैं।

यहां का लाजीएन्की पार्क भी बेहद सुंदर है। इसमें पानी के बीच एक सुंदर महल है। इसी पार्क में गर्मीयों में ‘चॉपिन म्यूजिक कंसर्ट‘ आयोजित होता है जिसमें दुनिया भर के संगीतकार और गायक हिस्सा लेते है।

करीब स्थित कैम्पिनोज नैशनल पार्क विभिन्न प्रकार के जीव-जन्तुओं तथा वनस्पति है का घर है। यहां हाइकिंग तथा साइकलिंग में रूचि रखने वालों के लिए कई कि. मी. लम्बे रास्ते हैं।

विस्तुला नदी वारसा को दो हिस्सों में बांटती है। वारसा में नहरें भी बड़ी संख्या में हैं। इसकी नदियां, झीलें बेहद सुंदर व स्वच्छ हैं। यहां से आसपास के ग्रामीण इलाकों तक भी आसानी से पहुंच सकते हैं। कुछ दुरी पर स्थित मासुरियान लेक डिस्ट्रिक्ट हजारों झीलों की भूमि के नाम से मशहूर है।

यहां पर सेलिंग, ट्रैकिंग तथा पैराग्लाइडिंग के विशेष इंतजाम हैं। इस इलाके में नदियों तथा नहरों से करीब 200 झीलों आपस में जुड़ी हुई हैं जो इस नैसर्गिक स्थल को और भी खास बना देती है।

Check Also

चिम्बोराजो: अंतरिक्ष के सबसे करीब

चिम्बोराजो: अंतरिक्ष के सबसे करीब

चिम्बोराजो ज्वालामुखी की खड़ी ढ़लान पर ऊपर की ओर जाने का प्रयास कर रहे एलैग्जैंडर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *